Monday, 11 June 2018

आदमी और कहानी

इस दुनिया का हर आदमी एक कहानी है।  उसका बोलना, चलना, रहना,  व्यव्हार, जीवन सब कुछ एक लम्बी ऊबा देने वाली कहानी है जिसके प्लाट और थीम को हर समय प्रेडिक्ट करने की कोशिश की जाती है।  दुनिया का ये सारा कारोबार, ये जगमग, ये  कोलाहल इन ढेर सारी कहानियों का ही एक मिला जुला सा  ताना बाना  है।  इस तरह ये दुनिया एक बहुत बड़ी कहानी है जिसमे कई सारी उप कथाएं और अनगिनत किरदार हैं।  


इतनी सारी कहानियों के बीच रहते रहते आदमी अक्सर अपनी खुद की कहानी जिसका वो सबसे मुख्य पात्र है,  उसे  भूल कर दूसरों की कहानी में उलझ जाता है। वैसे कहानियां उलझने उलझाने के लिए ही बुनी जाती  हैं।   किसी एक कहानी का हीरो  किसी दूसरी कहानी का विलेन बना हुआ दीखता है।  जो लोग एक कहानी में दोस्त हैं  वही लोग किसी दूसरी कहानी में छिपे दुश्मन भी हो सकते हैं।  ऐसा इसलिए होता है कि इंसानी दुनिया दिल और दिमाग दोनों  के घालमेल से चलती है।  कौनसी तार कहाँ से शुरू होकर कहाँ जुड़ती है और कहाँ से वापिस मुड़ जाती है ये तो शायद सृष्टि का मालिक भी नहीं समझ पाता होगा।  

बहुत सारी कहानियां तो बस आदमी के दिमाग में ही उपजती और फिर वहीँ  गुम हो जाती हैं।  आदमी अपने हिसाब से कहानी को तोड़ता मोड़ता जाता है , घटनाएं जो कभी हुईं तो कभी ना हुईं परउनकी एक श्रृंखला अपने दिमाग में जोड़ता जाता है. फिर इस तरह दिमाग के कूड़ा घर में बहुत सारी तहें परतें जमा होती जाती हैं.  आदमी का दिमाग एक मोहनजोदड़ो की कोई साइट बन जाता है, जिसे अगर खोदा जाए तो परत दर परत बहुत सारे ढाँचे निकलेंगे.... आधी पूरी कच्ची पक्की कहानियों के।  

आदमी का होना भी एक कहानी है।  एक निरंतर चलती लाइव कहानी।  सिनेमा के परदे पर दिखाई  जाए  या किसी नाटक के मंच पर, इसका  रहस्य रोमांच, प्रेम और घृणा ,  भय और निर्भीकता सारे द्वंद्व  एक सामान तीव्रता से बहे जाते हैं।  हम सब अपनी अपनी इन लाइव कहानियों  को जी रहे हैं  और  एक दुसरे के मनोरंजन या जुगुप्सा का साधन  बने हुए हैं.  

Friday, 12 January 2018

Song of A Phoenix

My Dear Little Girl,


How are you ? It has been a long time since we have spoken to each other.  It has been more than ten long years of that December morning, a whole decade !!! when we made a promise to ourselves. I know, how much you exactly  remember every thing about that cold yet sunny morning. Right now, when I am writing this letter to you, I know, you are going through a tough phase of life. That is the reason, I am here to remind you something from the past , from that glorious and colorful past which you might be forgetting or perhaps, have lost belief on your own words.

The day and that moment  is still alive in my memories. Darling, in all those years, you have grown up in a beautiful, confident and mature woman; you have come across a long journey. You have crossed the oceans and treaded upon the  most stony and thorny paths. Sweetheart, your journey is a worth telling story of  struggle and hardships. Dreams, that you nurtured in your heart with the blood of your soul, however couldn't be fulfilled completely, still you managed to achieved some of them.  


Flames of passion, ambition and aspiration ... Flames of hopes and desires ... To become an IAS officer. How easy does it sounds.. No ?? Yes, it was easy; It was hell easy to fall in love with just the thought of becoming an IAS and enjoying all that position, status, powers and of course monetary gains that will come along with that lucrative post.     And you loved this dream from the depth of your heart and from the core of your soul.

Was it that easy ? especially, when you come from a small and traditional town. You dared to challenge all the barriers of society that draw the lines for second gender and expect them to be satisfied with whatever options and choices given to them. It was the rage of those hundred and thousand flames that you denied to get married with less educated men, becoming a housewife and to give up the  ambition of becoming an IAS. You decided to go to new Delhi for further coaching and study. The very first girl of your prestigious family who went out of city for STUDIES. People warned you about crossing the "right age" of marriage and producing children and if not then being left to rot like an old sprinter; yet you did not moved even a single inch from your decision. That was the power of those burning flames in your heart that nobody could stand in front of your aspirations.

My dear, how on earth could  anyone  have imagine that this meek, shy, not so out spoken girl  who can't even manage the  "Simple Social Talks"; who have not seen the WORLD out of her cozy and safe home, can take such bold and strong decision. However, your parents knew that their little girl can not only take this decision but will also carry it with all her might. 

Why am I calling you little girl !!! you were not that much little at the time of  those big decisions. But, do I not know that your inner self is of a little girl; giggling, chirping and living in your own castles of  dreams. Soul of a little girl, hidden in the body of  an adult woman; this is how you appear in front of the world.

I know, you do not want to recall all those bitter memories of day to day struggles and troubles, your ailments due to the tough routine and harsh weather of Delhi etc. The cycle of life has once again brought you on such a  juncture when you are feeling depressed and lost. The Physical ailments has given you sufficient reasons to cry for better sunny days of life. But remember your own words, that you spoke on that December Morning, " This is the bottom line of My Life. I can't go down any further. Now I have to rise upwards only. There is one way only and that Way goes Upwards straight."  Do you remember your own words, "I am the phoenix who will rise from it's own ashes." Only you could have said such words in those  tough times.

And you Rose up, you shone like a morning star; Yes My girl that was you, who wrote the IAS mains just after three days of a finger surgery (right hand index finger). Do you remember those Bloody Words of doctors who once declared that you need to consult a psychologist and all that bla bla bla... 

It was you, who proved all those people wrong, who said, "Ahh, SHE!!!! she is looking like an old woman with white hair and wrinkles on her face, what she will do now. how her parents are going to find a good match for her ?

They were all wrong. You prove them wrong. Your selection in State Administration Services and the Degree of NET gave them a befitted reply.  And even before that,  before this Tag of Officer and all that decorum, you found a hidden talent of yourself. A talent or say a quality that might have remained hidden inside the pages of your personal diary, bloomed up in a shape of Two Blogs. Yes !!!, Two Blogs . From My Desk and Life With Pen And Papers.  "From my desk" was a tiny step into the world of blogging, a window of your thoughts, imaginations and fantasia. This blog gave a voice to all your pain, tears, sadness and whatever feelings that had shattered you in different ways after the failure in IAS. Little girl, your first ever story  "Yatra" was uploaded on this blog. However, this blog was not just for literary work; you wrote various informative articles about different social economic issues on this blog. And then, you realized that writing stories, fictions, book reviews and personal experiences is something that you enjoy the most rather than the academic work. Hence, this  current blog "Life with Pen & Papers" came into existence. A journey of your literary work, no matter how small or less impressive it was;  all that mattered is, It was a world of your creations, a place that gave a platform for everything that you wished to showcased, be it writing or photography or participating in online contests. A warm place woven with the the emotions, thoughts, fantasies and impulses of your soul. 

This blogging and writing helped a lot; right ?? it gave a new recognition and new level of energy  to the name and person who was still going through the struggle phase in her career. It not just only diverted your negative energy into a positive mode but also rekindle all those little hundred and thousand flames that got diminish due to the infelicities of life. Those flames and their combined energy gave new wings to the phoenix who was slowly slowly rising from it's own ashes. The sparkle and heat of flames that grew more and more fierce with each post that you wrote on blog. And, remember, when you wrote your story of struggle of those years in two parts, titled; Koyaliya Mat Kar Pukar !!! There were mixed reactions; some of your so called well wisher Friends took it as a publicity gimmick or sympathy gaining idea in virtual world. Some others said that writing all this stuff wasn't necessary and maybe the things have been presented in exaggerative manner.

However, that was not the case. You wrote that story because it helped to clean out and wash out all that pain, depression and storms of defeats that were being piled up in your heart from a long time.It was like venting out all your emotions in one go !!!!! moreover, no matter what others said, it took courage to write down all those emotions and cycle of events that you have gone through. It took a hell lot of courage to tell your story to the world; to unfold the pages of personal life... to scratch the wounds again that were healed up. It was a journey to your inner self. 

Right now, when I am reminding you all these things, something from the past is trying to make a come back in our collective memories.  That Greeting Card !!!!, do you remember it ???, What was most appalling about that simple card ? Inside empty, just a scenery of mountains and a lake !!!! or was that the quote, printed at the bottom of the card which immediately caught your attention. Climb High Climb Far, Your Goal The Sky, Your Aim The Stars  without any second thought, you picked up the card and bought it.... bought it for  A Day that you imagined will come in Near future. You decided that one day when you will achieve your goal of becoming an IAS and the day when your Dreams will Come True; you will give this card to yourself; a kind of award or medal or whatever one may call it. In your heart, you knew that such a lovely gift is a worth to wait for. 


The inner side of the card is blank and you kept the blank space untouched for THAT Special Day. However, as the time passed by, this card got disappeared from your memory or the tough struggle of career and life forced you to forget this card. in both cases, darling ! it is the right time to pick this card again and write something in it and present it to yourself, as it was promised  a long ago..... There is never too late for anything.. And It is the perfect time to realize your own worth.... Be proud on what you have achieved in past years and Be Proud on all those wounds, the harsh experiences of life gave you. 










Once Again My Dear Girl, Roar Like a Tigress, Emerge from the Flames of fire pit. Remember, the proud words of your Mother when she said, "What other people's Sons could not do; My daughter has done that."  Let not her words get ruined by the harshness of life.. Little Girl, Do not let the splendour of those hundred flames get  diminish because these flames are the representatives of your own soul, your very existence, your personality, what you have become and how you wished to be recognized and remembered by the rest of the world. 



Your's Only,
 A little flame of your strong will.





This blog post has been written for the #AHundredLittleFlames contest at the platform of indiblogger.  The title of this book drove me to pen down my feelings about life and it's ups and downs. 


Image Courtesy : 1. The Lion Image and the Phoenix is from google.
                             2. The Greeting Card Pics are from my personal collection of greeting cards and not taken from internet. 

Thursday, 30 November 2017

The Iron Story via Salad Bypass

"First get a  complete CBC ( Complete Blood Count) test ". Dr. Parihar was looking irritated.

"Is that all ??? I am having chest pain, gastritis trouble  has reached new levels and as I have already mentioned about my short breathing problem and dizziness and nausea .." I was also irritated.

"look madam, first get me the result of blood test and then I will prescribe any medicine or further tests." the Dr. raised his hand and turned his head towards another patient who was waiting at the door of doctor's cabin. 

I came out of the clinic and was still not convinced. How a simple CBC test will solve my problems ?? I scratched my head and a few strands of hair get tangled in fingers and reminded me that hair fall is only one of many troubles I am going through. 

"Your eyes are turning white Bhavana... look at your skin, it seems all the glow and color has been drained out. what is wrong ? are you alright ??" somebody in my office, asked me while glaring at my face.

"umm, don't know . just feeling low and maybe there is something wrong with my hemoglobin."


after two days.

"As I was suspecting,  you are severely anemic. Start this iron capsule and vitamin tablets from today and yes add more greens  in your daily diet."  The Dr. wrote the prescription and  then smiled at me.

" don't worry, it is a very common problem with ladies and all these symptoms are due to your low hemoglobin. hemoglobin is low because there is a serious deficiency of iron in your body. So start eating  green veggies, salad, fruits... Daily !!! (he emphasized).

"that's it ?"

"Iron deficiency is a lifestyle related problem. You might love to stuff your stomach with pizza, brownie, pastas but you don't shower the same love for green veggies and fruits. Do you ??" the doctor asked.

"You are absolutely normal and don't need any further tests but treat this iron deficiency seriously.  Eat healthy iron rich food and don't be careless, low hemoglobin is not a very good health situation."

After this short conversation with doctor, I again started scratching my head. what could be that one possible short cut for the Road to Iron Valley.  something that I can eat everyday and yet it should not be Boring !!!, It should be healthy and full of Iron. 

What about fruits ??? or just a bowl of salad ??? raw cabbage !!!  Spinach soup !!!! Methi ka saag !!! Beetroot juice !!!! .... so many ideas were floating in my fertile and intelligent brain. However, my lazy yet a health conscious soul was asking for a wholesome approach for Iron consumption. 

Eureka !!!! I found my that One Unique Recipe ... that wholesome Goodness of Iron in one dish ...a direct route to the Iron Valley was just a few minutes away. 

Here is my secret recipe to fight Iron deficiency with the powerful weapons of Mother Nature : Mix veggie and Fruit Salad

1. One medium size beetroot

2. One tomato medium size

3. Half Apple chopped in cubes one cup

4. A small bowl full of pomegranate seeds (arils)

5. thinly chopped cabbage one cup ( instructions : wash the cabbage properly and place it in warm water for ten minutes then bring it out and allow it to cool down before chopping. warming cabbage is necessary to remove all micro worms)


6. carrot fingers one cup

7. one cup plum pieces

8. half cup sweet corn

9.  broccoli one cup ( boil  the florets of broccoli  in an open deep pan)

10. one cup sliced cucumber 

For Seasoning :


10. black pepper powder as per taste

11.   Salt as per taste

12.  lemon juice two tea spoons

13. roasted cumin powder half tea spoon

14. freshly grated ginger half tea spoon

15. One tea spoon of desi ghee.


How to Prepare :

1. Boil the beetroot in a presure cooker ( it will take approx. 4-5 whistle to become soft).

2.  peel the outer skin of beetroot with your hands and cut it in to halves. make thin semi round slices of it.

3. cut the tomato in long pieces and dry roast them in a shallow pan for a minute. It will give them a flavor and the lycopene will do it's work in more better ways. in the same pan, roast the broccoli and seat corns with a tea spoon of  desi ghee.

4. Put all veggies and fruits (beetroot, pomegranate seeds, plum cubes, sweat corns, apple cubes, carrot fingers, cabbage, broccoli and tomatoes in a large bowl).

5. sprinkle the salt, black pepper powder,  cumin powder, grated ginger  and lemon juice over it.

6. mix all ingredients properly.  keep them in the bowl covered with the lid for five to seven minutes. allow all the juices and flavors to get mix with each other.  you will see that the beetroot juice is giving a rich pink color to all ingredients. 

7.  your iron rich ready to eat salad is all set to work on your exhausted body.

This Salad Bowl  is sufficient for three people

Note : you may replace sweet corn with green beans or any other veggie/fruits. sweet corn are full of natural sugar therefore, it could be a good substitute for satiating the sugar craving. 

I chose this simple and not so fancy dish because salad is one of the those food items that we can eat daily either in lunch, brunch, mid day snack or even for breakfast. It  doesn't need much time or extra efforts to prepare this salad so it is a quick fix meal for working women. The veggies ( broccoli, cabbage and beetroot itself does not have any specific taste, so using the fruits like pomegranate and apple etc, gives it a flavour )

one may say there are too many ingredients in this salad and the quantity is too much for a salad dish, but remember that raw veggies and fruits are full of water and fiber; therefore, they are easy to digest and does not bloat your stomach and keep the digestion intact.

I added this salad in my daily diet for one year and now my hemoglobin is stable and yes no more breathlessness and such troubles.

An extra tip... keep yourself stress free, stay active and add some light exercises in your daily routine. A proper iron rich healthy diet along with healthy habits are the Road to Iron Valley . See you There Soon !!!!  

Here I am posting the pics of salad making process and the final dish as well as :



dry roasted tomatoes

in same pan roast the broccoli and sweet corn with desi ghee
place them in another bowl to let cool

arrange all the ingredients at one place
let's begin the show


start mixing veggies (beetroot and cabbage, broccoli, sweet corn and tomatoes)
mix all fruits and veggies and sprinkle the seasoning ingredients of salt, black pepper, cumin powder, lemon juice and ginger shreds  

cover the bowl and keep it for five to seven minutes

ahh, please ignore my bad drawing and enjoy the salad 

So !! what are you waiting for ?? devour it !!!



This post has been written for the Livogen Iron Chef Contest.






Sunday, 19 November 2017

Sindhi Sai Bhaji with Methi Parantha : An Iron Saga

The color of blood, the color of life, the color of energy... Red. 

How iron deficiency can create troubles for us ?  Ever thought about it or faced it ? Most people think that it is just a matter of malnutrition and not eating properly. Is that all fuzz ??? No, the answer is a clear No. It is not that simple. 

If our body is going through an iron deficiency problem, then first we need to find out the exact reason for that. Are we not eating iron rich food or our daily diet does not contain enough natural iron resources like green leafy vegetables, fruits like apple and pomegranate, beetroots, grains like oats, etc. ?  or the body is losing blood!!!  in case of women, losing blood is one of the major cause for Iron deficiency.  It could be heavy menstrual bleeding and Fibroid that drain blood from our body almost every month.

I myself is a victim of this problem; not just iron deficiency but low hemoglobin problem as well as. It has been two three years since I was diagnosed with a fibroid. Fibroid is like an open wound that can keep flowing for 24 to 48 hours during your menstrual cycle and will also create severe cramps, bloating, weakness and what not. I have faced it for a long time.  Initially, my doctor gave me some iron rich capsules and syrup but around an year ago when this fibroid reached to 5mm size and hemoglobin fall to 7 then the warning clock ticked. 

"This medicine will reduce the size of fibroid but for hemoglobin I want you to eat more iron rich food and less junk. however, I am prescribing an iron tablet , take one everyday."

"How do you start your day ?" The doctor asked.

"With a cup of tea." I replied instantly.

"No, start day with  a glass of milk and  a handful of nuts like almonds, walnuts and cashews.  Go for a walk every day, do some light exercises like, stretching, warm ups and breathing exercises."

"Are you a non vegetarian ?"

"Yes ."

"Then, do include eggs and fishes in your diet twice or thrice in a week. Medicines will do their work but a healthy  daily routine and nutritious diet are the best treatment. because fibroid is not a serious disease rather it is lifestyle related problem; treat it with this perspective."


This was the piece of advise doctor Chetna gave me. 

Iron rich food... !!!!!! Spinach was the first name that came in to my mind, but I needed something simple yet a quick effective recipe. something that can easily gel up with my daily cooking schedule and should be  delicious as well as. and then I thought, ohh!!! it's our very own "Sai Bhaji".

Sai Bhaji the traditional Sindhi dish made with spinach, split chickpeas lentil, onion, garlic and tomatos. a simple, basic yet an effective nutritional food that goes very well with rice and chapati. Usually we Sindhis like to eat sai bhaji at night with plain rice , rice pulao or with chapatis. but, here it is about Iron consumption, so I came up with an idea of eating this sai bhaji with methi parantha in lunch and to make it  extra iron rich, I decided to cook it in an iron wok  rather than cooking it in pressure cooker.  Cooking food in iron wok  is an age old tasted formula to increase iron level in blood;  the fastest and easiest way, our elders swear by this...

Sai Bhaji with Methi Parantha or plain chapatti has been included in  my regular diet since then

Here goes the recipe of sai bhaji, the traditional sindhi style...

Ingredients :

1. 200gm spinach, fresh and small leaves

2. Two medium size onions ( thinly chopped)

3. 50gm yellow petite lentils ( I replaced split chickpeas lentil with this more easy to digest dal as I was eating sai bhaji almost thrice n a week)

4. Two medium size tomatos ( chopped in small pieces)

5. 7-8 cloves of garlic ( chopped)

6. Salt to taste

7. Two pinch turmeric powder

8. Two tea spoons of red chilli powder

9. One large green chilli

10.  Two tea spoon of coriander powder

11.  Two table spoon oil for frying garlic cloves and onions

12.  crushed ginger half tea spoon

Preparation :

Wash spinach  4-5 times in sufficient water and finely chop them . Soak lentils in water for 10-15 minutes, later on wash them thrice. 


Cooking method :

1.  Heat oil in iron wok and add garlic clove pieces. let the garlic pieces become light brown.

2. Add chopped onions and fry them till brown.

3. Add lentils  and green chili.

4. Add spinach and salt, red chilli powder, crushed ginger, turmeric and coriander powder. 

5. Add  one cup of water and cover the wok with a plate or lid.

6. Put a heavy utensil or ladle on the wok lid and let the dish simmer for 15-20 minutes. keep the flame of gas stove at medium. and keep checking the dish after 5-7 minutes, so it will not get burned.

7.  The lentils may take more time to become soft and fully cooked, therefore, if you wish to save the time then boil the lentils in pressure cooker before adding it to spinach. in that case, do not add lentils at early stage rather add them later in last 10 minutes.

( I have added tomato puree at the final stage when the whole preparation got cooked, because the tomatoes are acidic and I wasn't much sure how this acidic thing will react in an iron utencill on flame.)

8. Once cooked, remove it from stove and let it be cool for ten minutes and then mash the whole  preparation 
for a couple of minutes.

9. Iron rich spinach loaded with goodness of protein and lycopene is ready to eat.

 Methi paranthas gave an extra zing to this dish and makes it a wholesome meal. Serve it hot with sliced onion rings and sprinkle some lemon juice in sai bhaji before eating... and Voila !!!!

The iron wok gives a nice texture and thickness to the dish.

The Recipe for Methi parantha is below :

1. Wheat Flour two cups

2. 25 grams fresh methi leaves ( in summers when fresh methi is not available, you can opt for kasoori methi  that is dry methi leaves)

3.  one small onion thinly chopped

4. one small green chilli thinly chopped

5. salt to taste, one pinch turmeric powder, one tea spoon red chili powder.

cooking method :

1. wash methi leaves 4-5 times in fresh water.

2. mix all ingridients in flour  ( methi leaves, salt, turmeric, red chilli, green chili)

3. knead a soft dough and make  medium size balls.

4. roll out each ball with help of dry flour and prepare paranthas on a ladle. roast each parantha with one tea spoon of oil so the outer crust will become crispy and brown.


As I said, The color of Blood, the color of  Life... Red.

Here I am posting the pics of whole cooking process :
















                                                     











 




I have followed this diet for more than a year  ( thrice in a week) and now the fibroid size has been reduced to 3mm and the hemoglobin level  has become stable on 10 point.
This Post is written for the Livogen Iron chef Contest .  

The Iron Chef Contest is an initiative by livogen to spread the awareness about the importance of Iron in the diet and crowd sourced iron rich recipes. Simple lifestyle and dietary changes can help one go a long way in fighting iron deficiency. 



Images Courtesy : My mobile camera :)

This entry has won the Runners up award in the above said contest.





























Wednesday, 26 July 2017

अथ प्रतीक कथा ---- दूसरा वर्शन


अपने दोनों हथेलियों  पर अपना सर टिकाये, कोहनियां मेज़ पर  चिपकी हुई ,  प्रतीक  शायद आराम कर रहा है।  पास में परदे के पीछे से एक रसोइया कभी कभी इधर दुकान में झाँक लेता है , दोपहर होने आई है  लेकिन यूँही खाली बैठे हैं।  वैसे ये बीच का वक़्त यूँ  ठाले बैठे ही गुज़रता है , सुबह लोग आते हैं।  वो जो सामने दरवाजा है कांच का बड़ा सा , वहीँ से एक एक कर  लोग अंदर आते हैं  और प्रतीक उनको देखने पढ़ने की कोशिश करता रहता है।   

अमूल बटर की खुशबू  दुकान में  हर समय मौजूद रहती है।  इस खुशबु में प्रतीक को कुछ याद नहीं रहता।   भूलने के लिए भी कोई शगल चाहिए और प्रतीक का शगल है  आलू परांठा  पर अमूल बटर की एक्स्ट्रा परत ।  
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कितनी देर से सोया  हुआ है प्रतीक।  इस कमरे के शोर गुल  की गूंजती हुई  चुप के बीच प्रतीक  सोया है। जब जागेगा तब दुनिया कैसी दिखेगी ?  दुनिया प्रतीक को  कैसे देखेगी ? प्रतीक कब तक सोयेगा ? जगाते हैं तो भी नहीं जागता, लगता है कि  बहुत थक कर सोया है।  

बिस्तर के दोनों तरफ एक जंगल है मशीनों का, टिम टिम करती छोटी छोटी बिंदी जैसी लाइटें  और तारें और ट्यूब  और उन ट्यूब से बहता पानी जैसा कुछ तरल और खून जैसा लाल कोई द्रव धीमे धीमे प्रतीक के शरीर में बूँद बूँद टपकता रहता है।  और  इस सबके   बीच प्रतीक शांत , तसल्लीबख्श  अंदाज़ में सोया रहता है।  लोग आते हैं जाते हैं , बैठे भी रहते हैं लेकिन प्रतीक को कोई नहीं जगाता।  उसे अभी और सोना है ऐसा डॉक्टर  ने बताया है।   कौन जाने कौनसा सूरज उसे जगायेगा ?

नींद के लिए क्या कुछ नहीं करते लोग ... एक गहरी खामोश और सपनों से  भरी नींद के लिए।  और प्रतीक को वही गहरी खामोश नींद  मिली है , बिना मांगे , बिना चाहे , बिना कहे।  कब उठेगा प्रतीक इस नींद से ? 

नींद की गोलियों के पत्ते को हाथ में दबाये , कभी अपने माथे को छूना और कभी प्रतीक के माथे को , दादा जी कितना  कुछ सोचते हैं !!!!  अब बस उनकी ड्यूटी ख़त्म होने वाली है रात को यहां सोने के लिए छोटा अभी आता होगा।  दोपहर बाद से ही वो यहां आकर बैठ जाते हैं , अपने  बड़े बेटे के इस इकलौते बेटे की देखरेख के लिए  और ज्यादातर वक़्त केवल उसे देखने के लिए।  कौन जाने प्रतीक कब जाग जाए !!! 

छोटे काका ड्यूटी पर टाइम से पहुँच गए।  आज ये उनकी तीसरी रात है इस   आई सी यू के बाहर।  लेकिन प्रतीक पिछली सात रातों से जागा  नहीं है।  रात भी  अपनी पारी  की ड्यूटी पूरी करके सुबह वापिस घर लौट जाती है , छोटे काका भी सुबह चले जाते हैं फिर प्रतीक के पापा आ जाते हैं।    

आठवें  दिन की सुबह प्रतीक जाग गया। शरीर हरकत करता है , आँखें इधर उधर देखती हैं,  कान सुनते हैं। 

धीरे धीरे  मशीनें कम हुईं।  फिर  कमरा बदल गया।  एक महीना गुज़र गया।

 और  जीवन की कहानी का एक अध्याय समाप्त होकर दूसरा शुरू हुआ ।  प्रतीक ने कितनी ही बार उस कहानी को मन में दोहराया , जब लद्दाख गया था, जहां ट्रैकिंग और क्लाइम्बिंग करते दोस्तों के संग  खूब सारी  तसवीरें और वीडियो और फिर कहीं एक जगह पैर फिसला था और उसके बाद कुछ नज़र नहीं आया। उसके बाद नींद आ गई थी।  और जब जागेगा  तो  सिर्फ ये हॉस्पिटल और पास बैठे परिवार वाले बस इतनी ही दुनिया है।  हेड इंजरी कहा था ना  डॉक्टर ने।  वक़्त लगता है रिकवरी में, प्रतीक को भी वक़्त की ही ज़रूरत है।

वक़्त रेत की तरह हाथ से फिसलता है।  

और इसी वक़्त की ऊँगली थामे प्रतीक और उसके मम्मी पापा दिल्ली , अहमदाबाद और मुंबई के हॉस्पिटल्स के चक्कर अगले कुछ महीनों तक काटते रहे।  और आखिर साल भर बाद जब अस्पतालों में जाने,  वहाँ रहने इलाज  करवाने का दौर ख़त्म  हुआ तब तक धरती  अपनी धुरी  पर  एक पूरा चक्कर  काट चुकी थी। प्रतीक की बैंगलोर सिलिकॉन वैली वाली  नौकरी जो उसका स्टेटस सिंबल और परिवार का गर्व थी,  जा चुकी थी। प्रतीक घर पर आराम करता है।  

रिश्तेदारों में किसी के बेटे  या बेटी का सिलेक्शन जब कभी  आई आई टी ,  इंजीनियरिंग  के कोर्स में या किसी ऐसी ही प्रतिष्ठित नौकरी में होता और बधाइयां दी जाती,  तब प्रतीक की मम्मी को अपने बेटे का डिस्टिंक्शन से पास होना, सेमेस्टर में टॉप करना और फिर कैंपस सिलेक्शन  में सबसे आगे रहना सब याद आता। प्रतीक  इतना सब याद नहीं करता , उसकी मेमोरी ज़रा कमज़ोर हो चली है , कभी कुछ याद करता है तो कभी कुछ भूल जाता है।  डॉक्टर ने  कह रखा है ज्यादा दिमाग खपाने की ज़रूरत नहीं।  जो भूल गए सो बढ़िया और जो याद है उतने से ही काम  चलाओ।

काम चलाने को, अस्पताल के रिहैबिलिटेशन सेशंस के बिल चुकाने को  और सबसे बड़ी बात ज़िन्दगी को वापिस पटरी पर लाने के लिए  कोई काम चाहिए।  और इस काम चलाने की कश्मकश के बीच प्रतीक कई बार सोचने की कोशिश करता है कि इस तरह यूँ अचानक ज़िदगी कैसे पलटा खा गई ?? वो बंगलौर का वेल फर्निश्ड फ्लैट, दोस्तों के संग धमाचौकड़ी और  वो सुनहरे दिन ....   सब कुछ कहाँ गया ? और अब उस फील्ड में वापसी भी संभव नहीं।  अब तो यहीं कुछ रास्ता निकालना होगा।  और इस  चिंता करने योग्य मुद्दे को लेकर भी प्रतीक कभी चिंता  नहीं कर पाता , क्योंकि अब इतना सब सोचने के लिए  प्रतीक के पास कल्पनाएं और ख्याल नहीं है।  मम्मी पापा को ज़रूर  प्रतीक के भविष्य की चिंता है ,  उसके आर्थिक और वैवाहिक भविष्य की भी चिंता है।  


"पिक एन पैक"   ये नाम कैसा रहेगा ,  शार्ट एंड स्वीट !!!!" प्रतीक का आईडिया। 

"कुछ और भी सोच , ये तो बहुत अँगरेज़ टाइप लग रहा है ", पापा को नहीं जमा। 

" अच्छा फिर,  "देसी ढाबा " कैसा रहेगा ?" 

" हाँ ये फिर भी थोड़ा सा ठीक है , पर कुछ और बढ़िया नाम सोच। "

" पिक एन  पैक ही ठीक है पापा , अब इतना तो कोई बड़ा रेस्टॉरेंट  हैं नहीं अपना। टेक अवे ही तो कर रहे हैं। " प्रतीक ने मुरझाई सी आवाज़ में कहा।  

"बेटा , शुरुआत तो छोटी ही होती है. खैर  आजकल के हिसाब से ये नाम भी सही है। " 

 "पिक एन  पैक"    फ़ास्ट फ़ूड , कुल्छे, परांठे , छोले भटूरे और आइस क्रीम वगैरह  पैक करवाइये,  टेक अवे पार्सल के लिए फोन पर आर्डर करिये  और यहीं बैठना चाहें तो जगह ज़रा छोटी है।  दुकान में घुसते ही सामने एक काउंटर है जहां प्रतीक बैठेगा उसके पीछे बाईं तरफ किचन का दरवाजा दीखता है  और दुकान के दोनों तरफ की दीवारों पर एक से दुसरे कोने तक  स्टील की लम्बी मेज़ लगवाई गई है और  प्लास्टिक के कुछ स्टूल रखे हैं।  परांठों और कुल्छों की कुछ  वैराइटियां हैं , भटूरे और पूरियां भी तीन चार तरह के मिलेंगे।  और  गेंहूं की चपाती  तो हर समय आर्डर पर  उपलब्ध है।  

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कांच के दरवाजे से अब धूप आ रही है,  दरवाजा खुलता है,  कोई स्टूडेंट्स आये हैं , स्टूल पर बैठे हैं और आलू परांठा दही राजमा  दाल और सादा परांठा  के आर्डर हवा में तिरने लगे हैं।  रसोइये  के लिए साँस लेने का भी वक़्त नहीं,  प्रतीक की नज़रें उस धूप के टुकड़े पर हैं जो खुले दरवाजे के ज़रिये दुकान के अंदर  तक पसर गया है।  अचानक उस रौशनी में  हवा की  परछाइयाँ  तैरने लगीं।  स्टील की लम्बी मेज़ पर थालियां सजने लगी हैं और परांठे की ऊपरी परत पर मक्खन का सुनहरा इंद्रधनुष दमक रहा है।  खाने वाले ने खुद से कहा , " इतना  ऑयली  है।"  ये ऑइल उसके चेहरे पर चमकने लगा है।  

प्रतीक ने देखा - पढ़ा।  

"अरे सुन  मास्टर , परांठों पर मक्खन ज़रा कम लगाया कर , आजकल के बच्चों से इतना ऑइल खाया नहीं जाता। " 


*Image Courtesy : Google 

Monday, 3 July 2017

प्रतीक : एक कथा

दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट  

"फ्लाइट  आने में अभी और कितनी देर है ?" उसने अपने आप से पूछा।

सिक्योरिटी चेक का कॉल आने पर थोड़ी राहत महसूस हुई।  अचानक ये मुल्क, ये खूबसूरत आसमान छूता,  सपनों की दुनिया जैसा ये शहर ,  अब उसके लिए बिलकुल अजनबी हो गया था। एकदम अचानक से कि आज सुबह आप सो कर उठे और आपको बताया गया कि चलो सामान बाँध लो , जाने का वक़्त आ गया और  बंजारे का सफर अब फिर से शुरू हुआ ही चाहता है। उसे अभी ऐसी कोई जल्दी नहीं थी यहां से जाने की ; वो अब खुद को यहीं का रहवासी मांनने लग गया था।  उसके  लिए बंजारे वाला जीवन अब  समाप्त हो चुका  था और ठहराव वाला मोड़ जिंदगी में बस अभी आया ही था।  उसके लिए जिसका नाम प्रतीक था।  उसने आस पास देखा कितने सारे लोग खड़े थे,  दिल्ली जाने वाली फ्लाइट के इंतज़ार में , उसके जैसे लोग।  पर नहीं, सब उसके जैसे कहाँ है ?  प्रतीक भीड़ में होकर भी भीड़ नहीं है।  

ये 2009  का दुबई है, जब इकनोमिक क्राइसिस ने दुनिया  की  इस तेज़ी से बढ़ती अर्थव्यवस्था, स्काई स्क्रैपर्स के मुल्क, शॉपिंग और टूरिस्ट  डेस्टिनेशन के लिए मशहूर  और रियल एस्टेट के स्वर्ग को हिला डाला था।  अखबार और न्यूज़ चैनल बता रहे हैं कि  बड़ी बड़ी रियल एस्टेट और कंस्ट्रक्शन कंपनियां अपने कर्मचारियों को काम से निकाल रही हैं, घर वापिस भेज रही हैं।  प्रतीक भी घर जा रहा है।  लगभग सात साल इस स्वर्ग में बिताये हैं, अब वहाँ घर वापिस जाकर क्या करेगा ? उसके लिए अब नौकरी, पैसा, करियर, अलाना फलाना , लक्ज़री, सोसाइटी , सब कुछ यहीं दुबई में था।  अब वो "दुबई पलट "  बन गया था।  थोड़े दिन के लिए या कुछेक हफ़्तों के लिए घर लौटना और फिर  वापिस उड़ जाना अपने स्वर्ग में।  और अब इस तरह अचानक घर वापसी का  फरमान, नौकरी से निकाला  जाना , एक  बोल्ट फ्रॉम दि ब्लू की तरह था।

हिंदुस्तान के रेगिस्तानी कोने में फैला उसका शहर ; अब उसके लिए कोई आकर्षण नहीं जगाता था , वहाँ रह कर इतना पैसा और ऐसे ठाट बाट कमाए जा सकते हैं ?  क्या अब कोई नौकरी वहाँ ऐसी मिलेगी जिसमे इतनी तनख्वाह हो या कोई बिज़नेस करेगा ? ये बहुत बड़ा और भयानक सा सवाल था।  और जिसका जवाब धुल भरी सड़कों और  चिलचिलाती धूप में ढूंढ़ना प्रतीक के लिए किसी आपदा या विपदा से कम नहीं था।  

"सब बेकार बातें हैं, अभी तो मेरा वीसा भी साल भर के लिए वैलिड है अभी दो महीना पहले ही तो renew  करवाया था।  और क्या क्राइसिस !! चार छह महीने में सब सही हो जायेगा।  आखिर ये शेख लोग कुछ तो करेंगे ही। जनरल  मैनेजर भी बोल रहा था कि तेरे को वापिस बुला लूँगा।" 


दो महीने बाद : घर यानी जोधपुर 

" अरे यही एक नौकरी गई है दुनिया के सारे रास्ते तो बंद नहीं हो गए हैं। नौकरी के ऑफर तो आये ही हैं , मैं ही ज्वाइन  नहीं कर रहा हूँ  . तुम थोड़ा धीरज रखो। "

' कब तक धीरज रखूं, जब सगाई हुई थी तब तुम दुबई में सत्तर हज़ार महीने वाली नौकरी कर रहे थे और अब 15 -20  हज़ार वाली नौकरी की बात कर रहे हो। " 

"तुम आखिर  क्या कहना चाहती हो ? मुझे भी  चिंता है  कोशिश कर रहा हूँ कि  जैसे ही हालात सुधर जाएँ तो  चला जाऊँगा। " 

" रहने दो , कुछ नहीं होने का । "  और फोन कट गया।  

थोड़े दिन और कुछ बोझिल हफ्ते बीते।  फिर महीने भी बीते। इन्ही  दिन हफ़्तों के बीच  प्रतीक की सगाई टूट गई क्योंकि सौभाग्यकांक्षिणी को अपने भावी सौभाग्य की बेहद फिक्र थी ।  पंद्रह बीस हज़ार वाली नौकरी  प्रतीक को अब रास आ नहीं रही और एक लोकल कॉलेज के M B A  को पचास हज़ार जोधपुर तो क्या जयपुर में भी नहीं मिलेंगे।  

"दोबारा दुबई चला जाऊं ? वीसा अभी वैलिड है कोशिश  करूँगा तो नौकरी का कुछ जुगाड़ बैठ जाएगा और अब तो सात आठ महीने हो गए हैं मेरे कुछ फ्रेंड्स तो चले भी गए वापिस।  अब तो हालात सुधर रहे हैं। " 

एक सांस में सारी  कथा बांच दी प्रतीक ने और नेहा के पतिदेव सुमित यानी प्रतीक के जीजा जो फुटवियर का होलसेल व्यापार करते हैं  मुंह खोले चाय का कप हाथ में लिए धैर्य की पूंछ पकडे,  सुनने और समझने की कोशिश कर रहे हैं।  

" यहीं मेरे साथ बिज़नेस कर लो फुटवियर का , क्यों इतना परेशान होते हो। साल दो साल में  जम जायेगा बिज़नेस।  अब देखो बैठे बैठे इतने महीने भी तो निकाल दिए ना। "

"अभी कहाँ इतना कमाया है कि बिज़नेस सेट करने के लिए पैसे  ब्लॉक कर दूँ।  ये तो अभी दो साल हुए जो ये कंपनी ज्वाइन की थी , इसके पहले तो कम ही थी सैलरी , फिर घर बनवाया  और भी खर्चे ... " प्रतीक का मन नहीं हो रहा था इतना सब बोलने का पर बोलना पड़  रहा था।  

तो फिर तय हो गया, प्रतीक वापिस दुबई जाएगा। 

दिल्ली एयरपोर्ट पर एक बार वापिस फ्लाइट के इंतज़ार में खड़ा  है  प्रतीक।  लगता है कि अपनी पहली नौकरी के लिए, पहली "मुसाफिरी" ( समुद्र  यात्रा ) के लिए जा रहा है। एक बार फिर अपने उसी स्वर्ग में वापिस जाना  जहां से कुछ महीने पहले इसलिए निकलना पड़ा कि कंपनी ने ही नौकरी से निकाल दिया था. तो अब दूसरी कंपनी  ने दुबारा नौकरी दी है, बैग में सारे कागज़ हैं  और उन कागज़ों में प्रतीक की सारी  समस्याओं ,  ख्वाहिशों और ख्वाबो की चाबियां  छिपी हैं. प्रतीक के मन में  उत्सुकता है, घबराहट है और बहुत जल्दी है , कि  बस एक बार वापिस नौकरी पे लग जाऊं।  इस बार मार्केटिंग की नौकरी मिली है, पूरे गल्फ और एशियाई बाज़ारों में घूमना पड़ेगा।  प्रतीक को अलग अलग मुल्कों की खूबसूरती इस वक़्त दिल्ली  एयर पोर्ट पर ही बिखरी दिखाई दे रही है। 

साल भर बाद 

"दुबई का नाम सुनते ही लोग दस शर्तें लगा देते हैं।  शादी के बाद साथ ले जाएगा कि  नहीं ? लड़की को वहाँ नौकरी करनी पड़ेगी ? और जब से ये दुबई की अर्थव्यवस्था में गिरावट हुई है तब से लोग  अब दुबई के नाम से ही बिदक जाते हैं।" 

"पैसे भी तो दुबई से ही मिल रहे हैं।  वहाँ इंडिया में कौन दे रहा इतनी तनख्वाह ?"  प्रतीक झुंझला रहा है।  

"बेटा, यहीं कोई बिज़नेस कर लेता या नहीं,  मन नहीं है तेरा यहां रहने का ?"  माँ  क्या कहे ,  एक तरफ लगता है कि  लड़का लौट आये फिर चिंता है कि यहां कोई भविष्य फिलहाल तो दिखाई नहीं देता।  अभी कुछ साल वहीँ रह के कमा ले फिर तो आखिर आना ही है।  पर आजकल दुबई सेटल्ड लड़कों के लिए लड़की तलाशना बड़ी मुसीबत हो गई है।  गए वो ज़माने जब दुबई के नाम से ही रिश्ता आ जाता था , अब तो आया रिश्ता भी  दुबई का नाम से ही ...
दुबई अब सुरक्षित भविष्य की कोई गारंटी नहीं है , क्या पता कब निकाल दें ? या ना भी निकाले पर आखिर कभी  तो छोड़ना पड़ेगा ही; अब सारी  ज़िन्दगी वहाँ रहना तो अच्छे भले के बस  नहीं।  सुना है वहाँ बच्चों की पढ़ाई, अस्पताल के खर्चे और घर के किराए बहुत महंगे हैं।  

दो साल बीते  

"पिंटू तू जल्दी घर आ।  पापा की तबियत ठीक नहीं , अस्पताल एडमिट कराया है कल रात , तू आ जाएगा तो मम्मी को हिम्मत बंधेगी। " सुमित ने  फोन पर इस से ज्यादा और कुछ नहीं कहा।  

दुबई से जोधपुर तक  समंदर और ज़मीन की  जो दूरी है उसे प्रतीक ने इतनी तेज़ी से पार किया कि लगता है कि कहीं कोई दूरी है ही नहीं।   तीन दिन के बाद धरती और आसमान के बीच जो दूरी है उसे प्रतीक के पापा ने पार किया बगैर किसी जल्दी के।  

अब आगे क्या ... दुबई अब बहुत दूर हो गया है। घर खाली हो जाएगा मम्मी के लिए अगर प्रतीक दुबई चला गया। 

बिज़नेस वो भी फुटवियर का,  जिस से अभी तक प्रतीक बचता आया था क्योंकि बिज़नेस का कोई खास अनुभव नहीं और पूँजी गंवाने का डर  भी है। कहना आसान है लेकिन बाजार में स्पर्धा में टिकना बेहद मुश्किल।  पर अब इस बाजार के समंदर में कूदने के अलावा कोई और  चारा भी नहीं।  सुमित के साथ माल खरीदी और फिर रिटेलर को सप्लाई के तौर तरीके, व्यापार का रंग और ढंग सब कुछ ध्यान से सीखा प्रतीक ने।  महीनों की "ट्रेनिंग"  और  "प्रैक्टिकल"  के बाद  अब प्रतीक ने खुद का रिटेल काउंटर यानी दुकान शुरू की है, शहर के एक सबसे व्यस्त बाज़ार में जहां  फैशन के ट्रेंड शुरू होते और ख़त्म होते हैं।  यहां किराया ही इतना महंगा है दूकान का लेकिन फिर नाम भी है कि इस "बाजार" में दूकान है।  

दिन चलने लगे , हफ्ते और महीने भी चले गए। सात आठ महीने बीत चले । सुमित काम सिखा सकता था, बिज़नेस का हुनर नहीं। दूकान नहीं चली, पंडित ज्योतिषी कहते हैं कि चमड़ा या जूता जैसी चीज़ का कारोबार प्रतीक को नहीं फल सकता इसलिए .... इसलिए इस दुकान के साथ साथ प्रतीक ने अपनी जमा पूँजी का एक बड़ा हिस्सा  घाटे में डुबा दिया।  अब, जेब खाली है।  शादी के लिए रिश्ते,  जब दूकान शुरू की थी तब आया करते थे लेकिन तब बिज़नेस जमाने के चक्कर में प्रतीक टाल  गया  और जैसे जैसे दूकान के घाटे में होने की बात फैलनी शुरू हुई तो सब रिश्ते उड़न छू हो गए।  

अब फिर से प्रतीक घर बैठा है। वापिस नौकरी की तलाश की लेकिन फिर वही पुराना  खटराग कि  15-20 हज़ार मिलेंगे मुश्किल से और खटना पड़ेगा 12 -16  घंटे। नौकरी है या कि बंधुआ मजदूरी और उस पर सेठ की डाँट फटकार भी सहो। अब इतना त्याग प्रतीक से हो  नहीं  पाता है।

कभी कभी पुरानी तसवीरें देखता है, जब दुबई में था तब कैसा था ....  एकदम गोरा गुलाबी रंग, हलकी सी दाढ़ी रखता था। उस चेहरे से नज़रें आसानी से हटती नहीं थी। हलकी धीमी आवाज़ और यूँ सामने देखते हुए भी कहीं दूर देखती हुई नज़रें ... ये प्रतीक का सिग्नेचर स्टाइल था।  और अब .... अब भी कोई ज्यादा फर्क नहीं आया है।  आस पास के दूकानदार ही कहते थे कि प्रतीक गल्ले पे बैठने वाला बनिया नहीं किसी बड़ी फर्म के सजे धजे दफ्तर में बैठा सेठ साहब लगता है। पर अब लगने से क्या होता है। वक़्त बदल गया है और वक़्त ने प्रतीक को भी बदल दिया है पर आवाज़ और चाल ढाल की नफासत नहीं बदली है। कहीं कुछ तो बचा रहे।

पर अब बचा ही क्या है जो इस वहां को पाले रखा जाए कि "हम" कुछ अलग हैं।

साधारण होना और वो भी भीड़ में शामिल होना कितना आसान और सुविधाजनक है ये बात पहली बार प्रतीक को समझ आई।  कम्बख्त इतनी देर से समझ आई कि  प्रतीक का  मन किया कि उस पुराने वक़्त की याद को भी फाड़ कर फेंक दे।  पर यादें ज़रा मजबूत किस्म के पदार्थ की बनी होती हैं कि जितना ज़ोर लगाते हैं उतनी ही ज्यादा फैलती और बिखरती जाती हैं पारे की तरह। जाने कौनसे कागज़ या प्लास्टिक या मिटटी या धातु की बनी होती हैं  


फिर घूम फिर कर,  ये सब फिलोसोफी भूल कर ,  प्रतीक कुछ दिन-हफ्ते  सुमित के साथ  उसके दूकान पर बैठा ;  वक़्त गुज़ारने के लिए या कुछ सीखने के लिए  काम भी किया लेकिन दुकान पर सेठ नौकर का रिश्ता अलग है और जीजा साले का अलग है।  कुछ महीने तक एक दोस्त की ट्रेवल एंड टूर एजेंसी में  भी भागीदार बना और फिर जो पैसा कमाया उस से  दोस्त खुद ही टूर करने हांगकांग निकल गया और प्रतीक जोधपुर के उसके ऑफिस को ताला  लगा कर वापिस घर बैठ गया। और अब खाली बैठा घर में मम्मी की रसोई में हेल्प करता है।   क्या हेल्प करता है या रसोई को   बिगाड़ता है ये अभी निश्चित रूप से कहना मुश्किल है।  पर कुछ तो खटर  पटर  करता ही है रसोई में।  वक़्त गुजारने का अपना अपना शगल है साहब। पैसा जेब  में हो  तो शगल और शौक के खर्चे उठाये जा सकते  खाली जेब हो तो सारे शौक  शगल दिमागी फितूर कहलाते हैं।

क्यों,  क्या कहते हैं आप ?? 

"यार ये जो छोटे मोटे  फ़ूड स्टाल  खड़े रहते हैं जगह जगह , इनकी मेनू लिस्ट भी सिंपल है और ज्यादा लम्बी नहीं है फिर भी कितनी भीड़ रहती है इनके यहां।" पिज़्ज़ा का स्लाइस खाते खाते प्रतीक ने उन सब ठेले वालों रेहड़ी वालों को गौर से देखा जो इस खूबसूरत बगीचे को चारों तरफ से एक गोल बाजार की तरह घेरे हुए थे।  क्या नहीं मिलता इन छोटे से फ़ूड काउंटर्स पर ;  पिज़्ज़ा, हक्का नूडल्स,  मचुरियन, चिली पनीर, स्प्रिंग रोल्स, मोमोज़, फ्राइड राइस और अपने हिंदुस्तानी चटपटे स्नैक्स की तो बहार है।  पाव  भाजी से लेकर वड़ा  पाव और पानी पूरी से लेकर छोले कुल्छे।  

"यार सीधी बात है कि  लागत बेहद  कम है जिस से कीमत भी बहुत वाजिब हो जाती है  और लिमिटेड आइटम एक रेहड़ी वाला  बेचता है तो ऐसा कोई सामान की बर्बादी भी नहीं और इसलिए पब्लिक भीड़ लगाती है। ये पिज़्ज़ा यहां साठ  रूपए में मिलता है वहाँ  रेस्टोरेंट में डेढ़ सौ में पड़ेगा, डोसा सांभर ये लोग तीस चालीस रूपए में दे देते हैं और रेस्त्रो वाला सौ में देगा।"  आशीष, प्रतीक का बेरोजगारी के  दिनों का साथी है, यहीं इधर ही कहीं  गली मोहल्ले में रहता है। 

"पर यार क्वालिटी और कुकिंग स्टाइल प्लस एम्बिएंस ...."

" जिसको हफ्ते में तीन दिन बाहर खाना है उसके  लिए तो ये ठेले ही बढ़िया हैं. और तू बोल क्या कमी है इस सिंपल चीज़ पिज़्ज़ा में, रोस्ट अच्छा किया हुआ है और टेस्ट भी ठीक है। अब तू वापिस अपने दुबई वाले मोड में मत घुस जाना। "

"बात तो सही है तेरी।"  इतने काम दाम में  मार्गरिटा पिज़्ज़ा मिलेगा क्या ? प्रतीक को फिर से उन यादों पर झुंझलाहट आई जो उसे किसी पिज़्ज़ा ब्रांड आउटलेट की तरफ खींचती थी।

 प्रतीक का ध्यान अब उस किचन नाम की जगह पर था जहां अभी सैंडविच तैयार किया जा रहा था, एक तरफ तवे पर भाजी गरम हो रही थी और पाव सेके जा रहे थे , मेयोनेज़ का डब्बा वापिस किनारे पर रखा जा चुका  था ।  उसने गौर से उस काउंटर को देखा, एक तरफ  ओवन रखा था जिसमे  सैंडविच पिज़्ज़ा रोस्ट होते हैं और बिजली का कनेक्शन पास की दुकान से लिया गया है।  फिर उसने उन लड़को की तरफ देखा जो इस किचन को चला रहे थे;  एकदम एक्सपर्ट कुक की   तरह काम करते हुए ,  जिनके कपड़ों पर तेल मसालों के दाग हैं , किसी एक ने ऐप्रन भी डाल रखा है गले में।  प्रतीक ने उस शाम वहाँ खड़े खड़े  ग्राहकों की संख्या और उनके ऑर्डर्स  का एक मोटा मोटा  हिसाब लगाया और फिर एक गहरी सांस ली।  


"अपना घर इधर मेन रोड पर होने के कारण सारा दिन गाड़ियों का शोर, धुंआ ही पीछा नहीं छोड़ता। " 

मम्मी की नींद डिस्टर्ब हो गई क्योंकि बाहर एक ट्रक और फिर कुछ बसें तेज़ हॉर्न बजाती बसें  एक के बाद एक निकली। ये घर प्रतीक के पापा ने जब ख़रीदा था तब यहाँ से  करीब एक किलोमीटर की दूरी पर कुछेक सरकारी दफ्तर थे और बाकी सब तरफ  घर बने थे।  अब यहां सड़क पर आमने सामने  एक व्यस्त  बाजार, बस स्टैंड,  बैंक, मिठाई की दुकानें, एक सरकारी डिस्पेंसरी और एक बड़ा होटल  भी   बन गया है।  एकाध कैफ़े टाइप रेस्टोरेंट भी खुल गए हैं , आइस क्रीम पार्लर भी हैं।  


रसोई 


घर के बाहर के बरामदे नुमा हिस्से को टीन शेड से कवर किया गया, कुछ कुर्सी टेबल लगाईं गई, एक काउंटर लगाया है और काउंटर के पीछे पर्दा है जिसके पीछे रसोई है।  बाहर एक  साइन बोर्ड सड़क पे लगा दिया गया है, "भाई की रसोई" . मेनू कार्ड जो एक कागज़ पर छापा है जिसे लेमिनेट करवा दिया गया है,   काउंटर पे रखा है और ऐसे कुछ और मेनू  टेबल्स पे भी रखे हैं।  मेनू के व्यंजन वहीँ हैं, सैंडविच, पिज़्ज़ा, पाव भाजी, चाउमीन वगैरह और हाँ प्रतीक ने कुछ वैरायटी भी दी है. "शाही सब्ज़ियां" और थाली यानी केवल फ़ास्ट फ़ूड ही नहीं पूरा भोजन का इंतज़ाम है ; वैसे सब्ज़ियां भी सीमित हैं, शाही पनीर, दाल फ्राई, मौसमी हरी सब्ज़ियां, गट्टे की सब्ज़ी  वगैरह।  

जैसे तैसे रसोई चल ही निकली, रोज के हज़ार  बारह सौ का गल्ला हो जाता है. प्रतीक ने मार्केट रिसर्च की और अपने शाही पनीर का दाम  साठ रूपए का हाफ प्लेट कर दिया जिसमे इतना पनीर और ग्रेवी देता है कि दो आदमी पेट भर के खा सकें।  दाल और भाजी भी महज़  चालीस रूपए   में इतनी कि दो जनो का पेट भी भरे और जेब भी राजी रहे।

बस केवल एक बात अजीब थी कि प्रतीक उस ढाबे के सस्ते और सादे सेटअप में फिट नहीं था क्योंकि वो चाह के भी  ना तो ढाबे वालों जैसा दीखता है  ना उसके हाव भाव और बोल चाल  में ढाबा समा पाया। ग्राहकों से उतना ही बोलता है जितना बोलने भर से काम चल जाए  और वो भी अपनी उसी खास धीमी  आवाज़ में।  कपडे आज भी सलीके से, और खुद के कद काठी पर फबने वाले ही पहनता है;  यूँ खड़ा रहे तो लोग उसे ही ग्राहक समझ बैठते हैं  पर फिर जब आगे बढ़ कर प्रतीक उनसे पूछता है कि ,  " हाँ, क्या चाहिए आपको?"  तब ग्राहक समझ पाते हैं !!!!  पर खाना प्रतीक अच्छा बनाता  है।  ग्राहक भी इस बात को प्रतीक से ज्यादा समझते हैं  और इसलिए ये ढाबा तो  सस्ता सा  लगता लेकिन मालिक ज़रा  महंगा सा  और ढाबे वाला नहीं लगता।

खैर।

"बेटा,  अब ये रिश्ता ठीक ही लग रहा है , अब मैं तो थक गई हूँ।  और इन लोगों ने खुद आगे बढ़ के बात चलाई  है, लड़की की फोटो भी साथ भिजवाई  है।  देख ज़रा , ज़रा सांवली है और थोड़ी वजन में भी तुझसे ज्यादा लग रही है  पर ठीक है।  इसके घरवालों ने कहा है कि अगर कभी भविष्य में तू अपने इस रेस्टोरेंट को और अच्छा बनाना चाहे तो वे लोग मदद भी करेंगे। "

 ये आखरी बात ज़रा हल्की आवाज़ में कही थी मम्मी ने , क्योंकि इस एक बात के पीछे ये सच भी छिपा है कि  प्रतीक का ढाबा अभी इतना नहीं  चलता कि अपने दम  पर वो इसका विस्तार कर सके।  कुर्सियों के सीट कवर अब थोड़े मटमैले हो गए हैं और मेनू कार्ड का  लेमिनेट भी ज़रा गन्दा सा हो गया है।  पर फिर भी काम तो चल ही रहा है। प्रतीक ने तस्वीर को सरसरी नज़र से देखा फिर उस नाम को फेसबुक  ढूंढा।   वहाँ और भी तसवीरें थीं; एक ज़रा सांवली रंगत वाली ज़रा मोटी  और चेहरे में एक तीखापन और अजीब सा हल्कापन लिए एक लड़की।  प्रतीक को अपने नफीस अंदाज़ की याद एक  बार भी नहीं आई और उसने हाँ कह दी।  

शुभ विवाह के बाद अब प्रतीक की पत्नी ज्योति भी रेस्टोरेंट के काम में हाथ बंटाती है।  परदे के पीछे की रसोई में वो भी प्रतीक के साथ खाना बनाती है और प्रतीक खुद सर्व करता है , बहुत से लोग पैक करवा के ले जाते हैं और बहुत से यहीं खाते हैं।  ज्योति को देख कर  लोगों को लगता है कि वो इस ढाबे की मालकिन है, उसका चेहरा और व्यक्तित्व इस ढाबे को आत्मसात कर  गया है और ढाबे के लिए  प्रतीक  के बजाय ज्योति को अपना  कहना ज्यादा आसान था।